Gottamentor.Com
Gottamentor.Com

बीमारियों से निपटना और विश्वास को थामे रहना—यहाँ चंगाई पर 35 शास्त्र हैंScript



(आईस्टॉक)

अधिकांश व्यक्ति, किसी भी समय, कम से कम कुछ ऐसे लोगों को जानते हैं जो किसी प्रकार की बीमारी से जूझ रहे हैं। उन लोगों में से एक खुद भी हो सकता है। और अब जब एक शक्तिशाली वैश्विक महामारी है, तो हम केवल बीमारी की संभावना पर अधिक भय का सामना कर रहे हैं, साथ ही पहले से मौजूद चिकित्सा स्थितियों वाले लोगों पर इसका वास्तविक प्रभाव हो सकता है। कोई फर्क नहीं पड़ता कि विशिष्ट परिस्थितियाँ क्या हैं, प्रथागत दलील, प्रार्थना और आशा चंगाई के लिए है—स्वयं के लिए और दूसरों के लिए। और एक संसाधन जो इन कोशिशों के दौरान शांति और आराम ला सकता है, वह है बाइबिल , विशेष रूप से इसे संदर्भित करने के लिए चिकित्सा शास्त्र।

रोग चाहे शारीरिक, मानसिक, आध्यात्मिक या भावनात्मक हो, उपचार के लिए प्रार्थना करना, साथ ही साथ सामना करने की शक्ति, एक उत्पादक, सामान्य प्रतिक्रिया है। हीलिंग बाइबिल के पद हजारों वर्षों से पाठकों को आराम और मार्गदर्शन प्रदान कर रहे हैं, क्योंकि वे उस व्यक्ति की ओर इशारा करते हैं जिसके पास बोझ कम करने की शक्ति है। कोरोनोवायरस संकट में अज्ञात का सामना करने से बढ़ती चिंताओं के साथ, अंतर्निहित स्वास्थ्य चिंताओं के लक्षणों को प्रबंधित करने में कठिनाइयों का अनुभव किया जा रहा है, प्रत्येक दिन मामलों और मौतों की बढ़ती संख्या से संदेह और निराशा बुदबुदाती है (संभवतः हमारे प्रियजनों सहित), और दर्दनाक पीड़ाएं हो रही हैं नियमित रूप से निपटा, बाइबिल के पद उपचार के बारे में और विश्वास के बारे में बाइबिल छंद इन चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में स्थायी शांति ला सकता है।


आप वर्तमान में जो कुछ भी विरोध कर रहे हैं, हम आशा करते हैं कि ये उपचार शास्त्र आपको राहत और नवीनीकरण देने में मदद करेंगे, और कुछ ऐसे तनाव को कम करेंगे जो विशेष रूप से कर लगाने के दौरान अत्यंत कठिन परिस्थितियों को संभालने से आते हैं। जीवन के मौसम जब उत्तर से अधिक प्रश्न प्रतीत होते हैं। चाहे आप सर्वश्रेष्ठ की तलाश में हों उपचार के बारे में बाइबिल छंद , चंगाई के लिए प्रार्थना या चंगाई पर शास्त्र, यहाँ ३५ बाइबिल छंद याद करने के लिए हैं।

उपचार के लिए 35 बाइबिल छंद:

1. मत डर, क्योंकि मैं तेरे संग हूं; मैं तुम्हारा परमेश्वर हूं, निराश नहीं होना। मैं तुझे दृढ़ करूंगा, हां, मैं तेरी सहायता करूंगा, मैं अपके धर्ममय दाहिने हाथ से तुझे सम्हाले रहूंगा। — यशायाह ४१:१०


2. हे मेरे परमेश्वर यहोवा, मैं ने तेरी सहायता के लिथे तुझे पुकारा, और तू ने मुझे चंगा किया। —भजन ३०:२



सम्बंधित: विश्वास के बारे में बाइबिल वर्सेज

3. हे सब थके हुओं और बोझ से दबे लोगों, मेरे पास आओ, और मैं तुम्हें विश्राम दूंगा। — मत्ती ११:२८

4. क्या तुम में से कोई बीमार है? वे कलीसिया के पुरनियों को अपने लिये प्रार्थना करने और यहोवा के नाम से तेल से अभिषेक करने के लिये बुलाएं। और विश्वास से की गई प्रार्थना रोगी को चंगा करेगी; यहोवा उन्हें खड़ा करेगा। यदि उन्होंने पाप किया है, तो उन्हें क्षमा किया जाएगा। — याकूब ५:१४-१५


5. 'परन्तु मैं तुझे चंगा करूंगा, और तेरे घावों को चंगा करूंगा,' यहोवा की यह वाणी है...—यिर्मयाह 30:17

6. हे मेरे पुत्र, मेरी बातों पर ध्यान दे; मेरी बातों पर कान लगाओ। वे तेरी आंखों से ओझल न हों; उन्हें अपने हृदय के बीच में रखना; क्योंकि वे उन्हें पाने वालों के लिए जीवन हैं, और उनके सभी मांस के लिए स्वास्थ्य हैं। —नीतिवचन ४:२०-२२

7. हर्षित हृदय अच्छी औषधि है, परन्तु कुचली हुई आत्मा हडि्डयों को सुखा देती है। —नीतिवचन १७:२२

8. और मेरा परमेश्वर अपक्की महिमा के धन के अनुसार जो मसीह यीशु में है, तेरी सब आवश्यकताओंको पूरा करेगा। — फिलिप्पियों ४:१९


संबंधित: 40 शांति पर शास्त्र

9. ...आपने मुझे स्वस्थ कर दिया और मुझे जीवित रहने दिया। निश्चय ही यह मेरे लाभ के लिए था कि मुझे ऐसी पीड़ा का सामना करना पड़ा। तू ने अपने प्रेम में मुझे विनाश के गड़हे से बचाया; तू ने मेरे सब पापों को अपनी पीठ पीछे कर लिया है। —यशायाह 38:16-17

10. हर एक बात का एक समय और आकाश के नीचे सब कामोंका एक समय होता है: जन्म लेने का और मरने का समय, रोपने का समय, और उखाड़ने का भी समय, मारने का समय, और चंगा करने का भी समय है। फाड़ने का समय और निर्माण करने का समय, रोने का समय और हंसने का समय, शोक करने का समय और नृत्य करने का समय, पत्थरों को बिखेरने का समय और उन्हें इकट्ठा करने का समय, गले लगाने का समय और एक समय गले लगाने का समय, खोज करने का समय और हार मानने का समय, रखने का समय और फेंकने का समय, फाड़ने का समय और सुधारने का समय, चुप रहने का समय और बोलने का समय, एक समय प्यार करने का समय और नफरत करने का समय, युद्ध का समय और शांति का समय। — सभोपदेशक ३:१-८

11. वह दुर्बलोंको सामर्थ देता है, और जिन के पास बल नहीं है उनको बल देता है... जो यहोवा की बाट जोहते हैं, वे अपना बल बढ़ाते हैं; वे उकाबों की नाईं उड़ेंगे, वे दौड़ेंगे और थकेंगे नहीं, वे चलेंगे और मूर्छित न होंगे। —यशायाह 40:29,31,


12. उस ने हमारे पापोंको अपनी देह में अपके वृझ पर उठा लिया, कि हम पाप के लिथे मरकर धर्म के लिथे जीवन पाएं। उसके घावों से तुम ठीक हो गए हो। — १ पतरस २:२४

13. मेरे दु:ख में यह मेरी शान्ति है, कि तेरा वचन मुझे जीवन देता है। —भजन ११९:५०

14. वह टूटे मनवालों को चंगा करता है, और उनके घावों पर मरहम-पट्टी करता है। —भजन १४७:३

पंद्रह.प्रिय, मैं प्रार्थना करता हूं कि आपके साथ सब ठीक हो जाए और आप अच्छे स्वास्थ्य में रहें, क्योंकि यह आपकी आत्मा के साथ अच्छा है।— ३ यूहन्ना १:२


संबंधित: 300 बाइबिल सामान्य ज्ञान प्रश्न और उत्तर

16. और परमेश्वर उनकी आंखोंसे सब आंसू पोंछ डालेगा; फिर न मृत्यु होगी, न शोक, और न रोना। अब और पीड़ा न होगी, क्योंकि पहिली बातें जाती रहीं। —प्रकाशितवाक्य २१:४

17. हे यहोवा, हम पर अनुग्रह कर; हम आपके लिए तरसते हैं। हर सुबह हमारी ताकत बनो, संकट के समय हमारा उद्धार करो। — यशायाह ३३:२

संबंधित: 100 प्रेरणादायक उद्धरण

18. इसलिथे एक दूसरे के साम्हने अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके अपके लिथे प्रार्यना करो, कि तुम चंगे हो जाओ। एक धर्मी व्यक्ति की प्रार्थना शक्तिशाली और प्रभावी होती है। — याकूब ५:१६

19. मैं तुम्हारे पास शान्ति छोड़ता हूं; मेरी शांति मैं तुम्हें देता हूँ। मैं तुम्हें वैसा नहीं देता जैसा दुनिया देती है। अपने दिलों को परेशान मत होने दो और डरो मत। — यूहन्ना १४:२७

20. मेरा शरीर और मेरा मन टल सकता है, परन्तु परमेश्वर मेरे हृदय का बल और मेरा भाग सदा बना रहेगा। —भजन ७३:२६

21. परन्‍तु तुम जो मेरे नाम का भय मानते हो, धर्म का सूर्य उदय होगा, और उसके पंख चंगे होंगे। तुम बछड़ों की नाईं ठिकाने पर से उछलते हुए निकल जाओगे। — मलाकी ४:२

22. यीशु सब नगरों और गांवों में घूमकर उनकी आराधनालयों में उपदेश करता, और राज्य का सुसमाचार सुनाता, और सब प्रकार के रोग और व्याधि को दूर करता है। — मत्ती ९:३५

23. एऔर सब लोगों ने उसे छूने का यत्न किया, क्योंकि उस में से सामर्थ आ रही थी, और सब को चंगा कर रहा था।— लूका ६:१९

सम्बंधित: 25 क्रिसमस प्रार्थना और आशीर्वादless

24. यहोवा मेरा चरवाहा है, मुझे कुछ घटी न होगी। वह मुझे हरी चराइयों में लेटा देता है, वह मुझे शांत पानी के पास ले जाता है, वह मेरी आत्मा को तरोताजा कर देता है। वह अपने नाम के निमित्त मुझे सही मार्ग दिखाता है। यद्यपि मैं अन्धकारमय तराई में से होकर चलता हूं, तौभी विपत्ति से न डरूंगा, क्योंकि तू मेरे संग है; आपकी छड़ी और आपके कर्मचारी, वे मुझे दिलासा देते हैं। —भजन २३:१-४

25. में भरोसा रखेंभगवानपूरे मन से, और अपनी समझ का सहारा न लेना। अपने सब कामों में उसके आधीन रहो, और वह तुम्हारे लिये सीधा मार्ग बनाएगा। अपनी दृष्टि में बुद्धिमान न हो; डरभगवानऔर बुराई से दूर रहो। इससे आपके शरीर को स्वास्थ्य और हड्डियों को पोषण मिलेगा। —नीतिवचन ३:५-८

26. किसी बात की चिन्ता न करना, परन्तु हर बात में धन्यवाद के साथ प्रार्थना और प्रार्थना अपने अनुरोधों को भगवान के सामने प्रकट होने दें। और परमेश्वर की शांति, जो समझ से परे है, तुम्हारे हृदयों और तुम्हारे विचारों को मसीह यीशु में सुरक्षित रखेगी। — फिलिप्पियों ४:६-७

27. केवल इतना ही नहीं, वरन हम अपके क्लेशोंमें आनन्द करते हैं, यह जानकर कि दुख सहने से धीरज और धीरज से चरित्र और चरित्र से आशा उत्पन्न होती है...—रोमियों 5:3-4

28. हे यहोवा, मुझे चंगा कर, तो मैं चंगा हो जाऊंगा; मुझे बचा ले, और मैं उद्धार पाऊंगा, क्योंकि मेरी स्तुति तू ही है। — यिर्मयाह १७:१४

29. हे यहोवा, मुझ पर दया कर, क्योंकि मैं मूर्छित हूं; हे यहोवा, मुझे चंगा कर, क्योंकि मेरी हडि्डयां तड़प रही हैं। —भजन ६:२

30. अपके परमेश्वर यहोवा की उपासना करो, और उसका आशीर्वाद तुम्हारे भोजन और जल पर बना रहेगा। मैं तुम में से रोग दूर करूंगा...—निर्गमन २३:२५

31. धर्मी दोहाई देते हैं, और यहोवा उनकी सुनता है; वह उन्हें उनकी सब विपत्तियों से छुड़ाता है। यहोवा टूटे मनवालों के निकट रहता है, और पिसे हुओं का उद्धार करता है। —भजन ३४:१७-१८

32. परन्‍तु उस ने मुझ से कहा, मेरा अनुग्रह तेरे लिथे बहुत है, क्‍योंकि मेरी सामर्थ निर्बलता में सिद्ध होती है। इसलिथे मैं अपक्की दुर्बलताओंपर और भी अधिक आनन्द से घमण्ड करूंगा, कि मसीह की सामर्थ मुझ पर छाई रहे। — २ कुरिन्थियों १२:९

33. जब यीशु पहाड़ से उतरा, तो बड़ी भीड़ उसके पीछे हो ली। कोढ़ से ग्रस्त एक मनुष्य ने आकर उसके आगे घुटने टेके, और कहा, हे प्रभु, यदि तू चाहे, तो मुझे शुद्ध कर सकता है। यीशु ने हाथ बढ़ाकर उस मनुष्य को छुआ। उन्होंने कहा, 'मैं तैयार हूं। 'स्वच्छ रहो!' वह तुरन्त अपने कोढ़ से शुद्ध हो गया। —मत्ती ८:१-३

34. अनुग्रहपूर्ण वचन मधुकोश हैं, प्राण को मधुर और हड्डियों को चंगे करने वाले हैं। —नीतिवचन १६:२४

35. हे मेरे प्राण यहोवा की स्तुति करो, और उसके सब लाभों को न भूलना, जो तुम्हारे सब पापों को क्षमा करता है, और तुम्हारे सब रोगों को चंगा करता है, और तुम्हारे प्राण को गड़हे से छुड़ाता है, और प्रेम और करुणा के साथ तुम्हें मुकुट देता है। —भजन १०३:२-४

अधिक महान चाहते हैं उल्लेख। उद्धरण ? चेक आउट…
पचास आप की सोच उद्धरण
१५० सुप्रभात उद्धरण
100 शादी और शादी के उद्धरण
पचास शुक्रवार उद्धरण
100 परिवर्तन के बारे में उद्धरण
१०१ चिंता उद्धरण